Categories
EDUCATION

India and Covid-19 Pandemic- Impacts,Measures& Challenges/ भारत एवं कोरोना वाइरस महामारी- प्रभाव,उपाय व चुनोतियाँ

Covid -19

कोरोना वाइरस विश्व भर में 30 हज़ार से अधिकलोगों जीवन लील चुका है और इससे लाखों लोग संक्रमित हो चुके है।

भारत भी इस महामारी का सामना कर रहा है भारत के क़रीब 30 लोगों की मृत्यु हो गई है और क़रीब 1500 लोग इससे संक्रमित हो चुके है।

हालाँकि भारत में अभी तक कम्यूनिटी ट्रैन्स्मिशन नही हुआ है और इटली तथा अमेरिका जैसे हालात नही है लेकिन यदि एसा होता है तो स्तिथि भयावह होगी।

Covid-19 है क्या/ what is covid-19?

इसका नाम लैटिन भाषा के शब्द corona पर आधारित है जिसका अर्थ है crown ।

इसे आरम्भ में वुहान वाइरस ( चीन) के नाम से जाना गया।

11 फ़रवरी 2020 को विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) ने इसे आधिकारिक रूप से इसे नोवेल कोरोना वाइरस या Covid-19 नाम दिया।

इस वाइरस का ओरिजिन कैसे हुआ यह अभी तक पूर्ण रूप से ज्ञात नही है।अधिकांश विशेषज्ञों का मानना है कि इसकी शुरुआत वुहान(चीन) के seafood market से हुई।

यह वाइरस वास्तव में पशु से मानव में फैला है, सम्भवतः यह चमगादड़( bats) के सूप के माध्यम से मानव तक पहुँचा।

Seafood market wuhan

यह वाइरस चीन से आरम्भ होकर विश्व के क़रीब 200 देश तक पहुँच चुका है।

India and covid-19/भारत और कोरोना वाइरस—

भारत में इसके क़रीब 1500 मामले सामने आ चुके है तथा 30 से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

भारत सरकार ने क्या प्रयास किए?—

भारत सरकार ने इसे आपदा घोषित किया।आपदा घोषित होने के बाद राज्यों को यह अधिकार प्राप्त हो ग़या वे राज्य आपदाराहत कोष का प्रयोग कर सकेंगे। राज्य अस्थाई आवास बनाना आरम्भ कर सकते है ताकि संदिग्ध लोगों को अलग रखा जा सके।लोगों के लिए राहत कार्य आरम्भ कर सकते है विशेषकर असंगठित क्षेत्र के लोगों व ग़रीबों के लिए।जाँच के लिए अतिरिक्त लैब की व्यवस्था कर सकते है।

जनता कर्फ़्यू/janata curfew-प्रधानमंत्री के आवाहन पर २२ मार्च को प्रातः7 बजे से रात्रि 9 बजे तक जनता कर्फ़्यू रखा गया। यह वास्तव में लॉक डाउन से पहले की रिहर्सल थी। जनता कर्फ़्यू को लोगों का व्यापक समर्थन मिला।

ः21-DayLockdown/21 दिन का लॉक डाउन— प्रधानमंत्री ने Epidemic Disease Act-1897 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 के तहत 21 दिनों के सम्पूर्ण लॉक डाउन की घोषणा की( 24 मार्च को)। इस लॉक डाउन के अंतर्गत—

A-यातायात को स्थगित किया गया।

B-मैजिस्ट्रेट को विशेष अधिकार दिए गए।

C-आवश्यक वस्तुओं को छोड़कर अन्य सभी प्रकार की वस्तु व सेवा कार्य को प्रतिबंधित किया गया।

ःआर्थिक राहत की घोषणा-भारत सरकार ने असंगठित क्षेत्र, किसानों , ग्रामीण श्रमिकों आदि के लिए 1 लाख 70 हज़ार करोड़ रुपए के राहत पैकेज़ की घोषणा की।

RBI के द्वारा राहत कार्य- RBI ने तीन माह के लोन EMI की राहत दी( हालाँकि यह बैंकों पर छोड़ा गया की वे किस तरह राहत देंगे) साथ ही RBI ने CRR, रेपो रेट आदि में भी छूट की घोषणा की ताकि बाज़ार में तरलता की कमी ना रहे( लॉक डाउन के दौरान व बाद में भी)

RBI Governor

21 दिन के लॉक डाउन का प्रभाव—

1-भारी संख्या में मज़दूरों का पलायन आरम्भ हुआ, ये वे मज़दूर है जो अपने राज्य को छोड़कर काम हेतु किसी अन्य राज्य में गए थे।

2- ग्रामीण क्षेत्र में किसानों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा क्योंकि यह फसल कटाई का समय है।

3- आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता को लेकर अविश्वास उत्पन्न हुआ जिससे जिससे जमाख़ोरी को भी बढ़ावा मिला।

4-भारत का असंगठित क्षेत्र अत्यधिक प्रभावित हुआ, इससे न केवल भारत का सकल घरेलू उत्पाद प्रभावित हुआ वरण मज़दूरों में ग़रीबी एवं भुखमरी में वृद्धि हुई क्योंकि लोग लम्बे समय तक बेरोज़गार हो गए।

5- लोगों में जागरूकता की कमी के कारण अनेक स्थानों पर प्रशासन को बल प्रयोग भी करना पड़ा।

भारत के सामने चुनोतियाँ( Challenges while combating covid19)—

1-Limited Testing Facilities/ सीमित जाँच सुविधा- भारत में जाँच की सुविधा अत्यधिक कम हैं ।अभी तक क़रीब 40 हज़ार जाँचे ही हो सकी है, जबकि आबादी १३० करोड़ है इस अनुपात में यह अत्यधिक कम है।लेकिन covid-19 को रोकने के लिए अत्यधिक जाँच आवश्यक है।

2-Lack of Strong Healthcare/अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं का अभाव-यह भी एक बड़ी चुनोति है।विकसित देशों के मुक़ाबले भारत में सुविधाएँ अत्यधिक कम है। सबसे अधिक ज़रूरत वैंटीलेटर की होगी , भारत में इनकी अत्यधिक कमी है। भारत क़रीब 70% वैंटीलेटर आयात करता है जबकि इस समय इनकी व्यापक माँग है अतः पूर्ति में दिक़्क़त हो रही है।

3- Limited Number of beds in hospital/अस्पताल में सीमित पलंग—भारत में प्रति 1000 व्यक्तियों पर क़रीब 0.55 ही पलंग है। चीन में यह प्रति 1000 व्यक्तियों पर 4.3 पलंग है।इसका आशय है की यदि कम्यूनिटी ट्रैन्स्मिशन होता है तो निपटना मुश्किल होगा।

4-Population Density/ जनसंख्या घनत्व-भारत में जनसंख्या अत्यधिक सघन है प्रति वर्ग किलो मिटर में क़रीब 450 लोग निवास करते है। भारत के दिल्ली ,मुंबई,कोलकाता,चेन्नई,बंगलुरु,जयपुर आदि नगर अधिक सघन है और साथ ही इनकी एक बड़ी आबादी झुग्गियों में भी निवास करती है। यदि यहाँ इटली की तरह कोरोना फैला तो हालात क़ाबू में नही आएँगे।

5-India’s Elderly At High Risk/ भारत की वृद्ध आबादी – भारत में १० करोड़ से भी अधिक लोग एसे है जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक है यह आबादी इटली की कुल जनसंख्या से भी अधिक है। और यह सर्वविदित है कि कोरोना इस आयु वर्ग को सर्वाधिक प्रभावित करता है।

6-Lack of knowledge about covid-19 in common peoples/ आम लोगों में कोरोना को लेकर जानकारी का अभाव है।

Covid -19

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s